इश्क़

कितना इश्क़ तुमसे किया करते हैं, तन्हा हर शाम यादें जिया करते हैं दफ़न तो कर दें कहीं किसी कोने में, तेरी इल्तज़ा है, सांसे लिया करते हैं हर वक़्त की तन्हाई का आलम है ये, तेरी याद को सफर ए हयात किया करते हैं कुछ लफ्ज़ हैं,कुछ इश्क़ और कुछ आंसू, जिया है जो […]

Read More इश्क़

ग़ज़ल ए शाम

शामे बेवक्त फिर से गहराने लगी है, लगता है उन्हें हमारी याद आने लगी है , लिपट जाती है उससे वो हर रात ही को, महक चादर में मेरी, उसपे हक जताने लगी है, उसने मेरा किस्सा शायद सुना ही डाला, नींद फिर से ख्वाबों को सताने लगी है, उसका जाना या आना मौसम क्या […]

Read More ग़ज़ल ए शाम

#Metoo

ये सो सो कर क्यों जाग रहे, सुर्खियां बटोरने को भाग रहे, लाठी तभी उठाओ जब सांप काट रहा, न्याय बहुत देरी से न्यायलय भी बांट रहा, देर से जागे हो चलो अभी मान सवेरा लो, ऐसे सर्पों से बदला अब बहुतेरा लो, हर चेहरे से अब नकाब हटता जाता है, भारत अब एक नई […]

Read More #Metoo

सफलता का पथ।

सुंगध पुष्पों की जीवन के पश्चात भी, दिन सवेरा आयेगा होगी घनी रात भी, जल झरनों का भला क्यों ही सूख रहा, है भार तनिक सा ही, तू क्यों टूट रहा, थाम होंसला और पकड़ पतवार भी, जीतेगा नहीं हर बार, होगी हार भी, चलते जाना और सर्वस्व नहीं तू हार रहा, ये ठोकर दे […]

Read More सफलता का पथ।

नवांकुर कवि

मैं नया जन्मा एक कवि हूं, छुपा हुआ बादल के पीछे, किन्तु तेज है सूर्य जैसा, मैं भी रवि हूं, मैं एक नया जन्मा कवि हूं।। मेरे शब्द अभी गेय नहीं, किन्तु है मेरा भी ये ध्येय नहीं, सीखता हूं मैं कण-कण से समझता अभी अपनी छवि हूं, मैं नया जन्मा एक कवि हूं।। यथार्थ […]

Read More नवांकुर कवि

राही

गाता विरह के मैं गीत नहीं, है ये मेरा संगीत नहीं, भाग्य की कलम मैं स्याही हूँ, मैं प्रगति पथ का राही हूँ, सूक्ष्म है विचार बहुत, पाया है मैंने प्रतिकार बहुत, किन्तु असफलता को त्राहि हूँ मैं प्रगति पथ का राही हूँ, स्वप्न देखना भाता है, पूर्ण करना भी आता है, दीप हूँ अंधकार […]

Read More राही

ਵਕਤ ਦੇ ਲਮਹੇ

ਅੱਜ ਵਕਤ ਤੋਂ ਕੁਝ ਲਮਹੇ ਉਧਰ ਮੰਗੇ, ਹਾਂ ਸ਼ਾਇਦ ਏ ਦੂਜੀ ਬਾਰ ਮੰਗੇ, ਪਹਲੀ ਬਾਰ ਮੰਗੇ ਸੀ, ਤੇਨੂੰ ਆਉਂਦੀ ਨੂੰ ਵੇਖ ਕੇ, ਚੁੰਦਾਂ ਸੀ ਬੱਸ ਗੱਲਾਂ ਕਰੀ ਜਾਉ ਵਕਤ ਨੂੰ ਰੋਕ ਕੇ, ਦੂਜੀ ਵਾਰ ਅੱਜ ਜਦ ਯਾਦ ਤੇਰੀ ਨੇ ਡੇਰਾ ਲਾ ਯਾ, ਮੈਂ ਅੱਜ ਫੇEnglishਰ ਕਮਲਾ ਹੋਇਆ, ਫਿਰ ਕਾਗਜਾਂ ਦਾ ਬੇੜਾ ਖੜਕਾਇਆ, ਕੁਛ ਲਿਖਣ ਨੂੰ […]

Read More ਵਕਤ ਦੇ ਲਮਹੇ