रास्ते से राबता

अक्स मेरा तो मुझ में ही है, मैं आईना ले के क्या करूं, मेरी खुशियां, छुपी है तेरी मुस्कुराहटों में, मैं जमाने को देख क्यूं जलूं, राबते अगर हम बनाते, तो सोचता भी एक पल के लिए, खुदा के बनाए राबतों पर मैं शक क्यों करूं, मेरी फिक्र खुद खुदा ही ही करेगा, मै भला […]

Read More रास्ते से राबता

तुम और मैं

मैं बिखरा सा हूं, आसमां के माफिक, तुम जमीं हो मेरी, मेरा हर छोर जानती हो, मै शांत सा हूं, एक तूफान के माफिक, तुम हवा हो मेरी, मेरा हर शोर जानती हो, मैं सख्त सा हूं, एक कोतवाल के माफिक, तुम वजीर हो मेरी, मेरा हर चोर जानती हो, मै बेरंग सा हूं, एक […]

Read More तुम और मैं

गजलनुमा गजल

वो जो कारवां गुजरा, तो समा कुछ ऐसा बंधा कुछ साथ चलने लगे कुछ साथ निकल गए सुनते है इक तूफान आया था पिछली दफा, कुछ पत्ते उड़े, कुछ बिना उड़े भी बिखर गए, रात पर पहरा चांद का हुआ है फिर आजकल, सुना है कुछ जुगनू सितारों से भी निखर गए, रुख बदला है […]

Read More गजलनुमा गजल

जागो

उठो! स्वप्न निद्रा से जागो, प्रयत्न की लगाम थाम, वेग पकड़ो, द्रुत गति से भागो, स्वप्नों से भला कब जग पाया है, सर्वस्व झोंक कर ही सबने, इतिहास रचाया है, उठो! स्वप्न निद्रा से जागो, प्रयत्न की लगाम थाम, वेग पकड़ो, द्रुत गति से भागो,::::::::::::::::::::::१ स्वप्न देख लिए बहुतेरे, निद्रा त्याग करो, अब हुए सवेरे, […]

Read More जागो

इश्क

किसी का चेहरा चांद हुआ, किसी की जुल्फ ने बादल लाए, कोई इश्क में हंसा, किसी ने अश्क भी बहाए, जो बातें और होती भला तो क्या बुरा होता, जो इश्क को किसी से इश्क हुआ होता, सिसकता वो भी रातों को, दिन वो भी मुस्काता, इश्क भी फिर भला इश्क कर के पछताता, जवानी […]

Read More इश्क

फलसफा ए जिंदगी

किसी के लबों पे आओ तो मुस्कान बन कर, दर्द बन जाना किसी के दिल का आसान बहुत है, किसी के दिमाग में आओ, तो दिल से हो कर गुजरना, बुरी याद बन जाना किसी की जिंदगी में आसान बहुत है, किसी के याद में अगर जलो रफ्ता रफ्ता तो दीया बन के, आग बन […]

Read More फलसफा ए जिंदगी